वैज्ञानिकों के अनुसार, प्राचीन मानव अवशेषों के डीएनए का परीक्षण किया गया है, और दो प्रकार की मानव प्रजातियां 15,000 साल पहले ब्रिटेन में रहती थीं। उनमें से एक प्रकार के लोग नरभक्षी थे।

प्राचीन मानव हड्डियों की जांच से नरभक्षी के बारे में जानकारी l

वैज्ञानिकों को प्राचीन मानव अवशेषों और हड्डियों की जांच से नरभक्षी के बारे में नई जानकारी मिली है। उन्हें पता चला है कि ऐसे नरभक्षी कभी ब्रिटेन के विशाल इलाकों में बसे थे। वैज्ञानिकों के अनुसार, प्राचीन मानव अवशेषों के डीएनए का परीक्षण किया गया है, और दो प्रकार की मानव प्रजातियां 15,000 साल पहले ब्रिटेन में रहती थीं। उनमें से एक प्रकार के लोग नरभक्षी या नरभक्षी थे। उन्होंने मानव मांस खाया। इतना ही नहीं लोगों को मार कर उनका मांस खाने के बाद मृतकों की खोपड़ी को बर्तन के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता था। खोपड़ी नरभक्षी की दैनिक आवश्यकताओं में से एक थी। वैज्ञानिकों ने इसके कई प्रमाण खोजे हैं। लेकिन ब्रिटेन में रहने वाले प्राचीन मनुष्य की दूसरी प्रजाति में इस तरह की क्रूरता का कोई सबूत नहीं मिला है, वैज्ञानिकों का दावा है। वे नरभक्षी नहीं थे। वैज्ञानिकों और इतिहासकारों ने ब्रिटेन के सबसे बुजुर्ग इंसानों के रूप में एक महिला और पुरुष के अवशेषों के डीएनए का परीक्षण किया है। उन्होंने कहा कि आदमी करीब 13,500 साल पहले ब्रिटेन में रहता था और महिला करीब 15,000 साल पहले। महिला के अवशेष ब्रिटेन के मेंडिप हिल्स के गॉफ गुफा में पाए गए। नर अवशेष उत्तरी वेल्स में केंड्रिक गुफा में पाए गए। ये प्राचीन अवशेष नरभक्षी पर शोध पर प्रकाश डालते हैं। विशेषज्ञों का दावा है कि ब्रिटेन में इतनी उम्र के बहुत कम दस्तावेजी सबूत हैं।

वैज्ञानिकों का दावा गॉफ गुफा में महिला अवशेषों नरभक्षी के लक्षण हैं।

यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन के पुरातत्व विभाग, प्राकृतिक इतिहास संग्रहालय और फ्रांसिस क्रिक इंस्टीट्यूट के शोधकर्ताओं ने प्राचीन अवशेषों की जांच के बाद नेचर इकोलॉजी एंड इवोल्यूशन पत्रिका में नरभक्षी पर अपने निष्कर्ष प्रकाशित किए हैं। यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन के पुरातत्व विभाग, प्राकृतिक इतिहास संग्रहालय और फ्रांसिस क्रिक इंस्टीट्यूट के शोधकर्ताओं ने प्राचीन अवशेषों की जांच के बाद नेचर इकोलॉजी एंड इवोल्यूशन पत्रिका में नरभक्षी पर अपने निष्कर्ष प्रकाशित किए हैं। वैज्ञानिकों का दावा है कि गॉफ गुफा में मिली एक महिला के अवशेषों में नरभक्षी के लक्षण हैं। आस-पास के क्षेत्र में रहने वाले सभी लोगों के आहार के रूप में मानव मांस था। इसके अलावा प्राचीन लोग हिरण, घोड़े और ऐसे शाकाहारी जीवों को भी खाते थे। वे शिकार पकड़ने के लिए ऊंटों पर बैठते थे। अन्य साक्ष्य केंड्रिक गुफा में पाए गए नर अवशेषों से प्राप्त हुए। वैज्ञानिकों का दावा है कि उस इलाके के लोगों ने बहुत सारी मछलियां और अन्य जलीय जंतु खा लिए थे। हालांकि, मानव मांस खाने का कोई सबूत नहीं है। वैज्ञानिकों का दावा है कि प्राचीन काल में नरभक्षी बिल्कुल भी दुर्लभ नहीं थे। बल्कि, अन्य पांच भोजन की आदतों की तरह, मानव मांस प्राकृतिक और स्वादिष्ट था। मुख्य रूप से मानव शरीर को पत्थर के हथियारों से मारने और उसके साथ मांस काटने के संकेतों से नरभक्षी के बारे में शोधकर्ता निश्चित रहे हैं। इस चोट के लक्षण अन्य जानवरों के हमलों से भिन्न होते हैं।

प्राचीन लोगों की हड्डिय पाए गए हैं।

अन्य लोगों के दांत भी प्राचीन लोगों की हड्डियों में पाए गए हैं। वैज्ञानिकों का दावा है कि गोफ गुफा में केवल वह महिला ही नहीं बल्कि कई अन्य प्राचीन मानव हड्डियां मिली हैं। इनमें एक 3 साल का बच्चा भी है। सभी के पास रॉक ट्रॉमा और मानव के काटने के सबूत थे। शोध के अनुसार, प्राचीन लोगों के शरीर से आंखों, होंठों जैसे सभी कोमल अंगों को पत्थरों से काटकर निकाल दिया गया था। उन्हें कई मामलों में पसंदीदा भोजन माना जाता था। अध्ययन में दावा किया गया है कि इन नरम भागों के लिए नरभक्षी की भूख अपेक्षाकृत अधिक थी। वैज्ञानिकों ने यह भी पता लगाया है कि प्राचीन काल में मानव मांस खाना मानव स्वभाव का हिस्सा था, दूसरी ओर मानव मांस भी विभिन्न अनुष्ठानों के हिस्से के रूप में खाया जाता था। हाल ही में केरल में एक दंपति पर नरभक्षी खाने का आरोप लगा है। जिसने व्यावहारिक रूप से पूरे देश में हंगामा खड़ा कर दिया। आरोप है कि उन्होंने उस मांस को नरबोली के साथ खाया। हालाँकि आज भारत में इसकी निंदा की जाती है, हजारों साल पहले यह आहार सामान्य और आवश्यक था।