अमिताभ बच्चन की नातिन नव्या नवेली ने बॉलीवुड में धमाल मचा के रख दिया है! मेरी बात पर लोगों को आपत्ति होगी, लेकिन रिश्ते में शारीरिक आकर्षण भी बहुत जरूरी है। हमारे वक्त में हम प्रयोग नहीं कर सकते थे, लेकिन आज की पीढ़ी करती है और क्यों न करें? क्योंकि अगर शारीरिक संबंध नहीं है तो रिश्ता बहुत लंबे समय तक चलने वाला नहीं है। मुझे लगता है कि आपको अपने सबसे अच्छे दोस्त से शादी करनी चाहिए। आपको उससे कहना चाहिए कि शायद कि मैं आपके साथ एक बच्चा पैदा करना चाहती हूं, क्योंकि मैं आपको पसंद करती हूं, तो चलो, हम शादी करते हैं, क्योंकि समाज का ऐसा ही कहना है। वैसे, नव्या मुझे कोई दिक्कत नहीं है, अगर आपका बिना शादी के भी बच्चा होता है।’ पिछले दिनों वेटरन ऐक्ट्रेस और राज्यसभा सदस्य जया बच्चन का यह वक्तव्य काफी चर्चा में रहा, जिसमें वे अपनी नातिन नव्या नवेली नंदा के बिना शादी के भी बच्चा पैदा करने पर समर्थन करती दिखीं। जया बच्चन ने ये बात नव्या के ही पॉडकास्ट व्हाट द हेल नव्या में कही, जहां नव्या अपनी मां श्वेता बच्चन और नानी जया बच्चन के साथ औरतों की सेहत, आर्थिक स्वतंत्रता, प्यार, रिलेशनशिप, दोस्ती, सोशल मीडिया, पैरेंटिंग जैसे विविध विषयों पर चर्चा करती हैं। नव्या का यह पॉडकास्ट आजकल काफी सुर्खियां बटोर रहा है।

वैसे, इस पॉडकास्ट के अलावा, नव्या अपने कमाल के करियर चॉइस के लिए भी खूब वाहवाही बटोर रही हैं। बॉलीवुड की चर्चित फिल्मी फैमिली से ताल्लुक रखने, महानायक अमिताभ बच्चन की नातिन होने के नाते सबको लगा था कि तमाम स्टार किड्स की तरह नव्या भी एक्टिंग का रुख करेंगी। उनके लिए यह रास्ता आसान भी था, लेकिन नव्या ने साफ कर दिया उन्हें एक्ट्रेस बनने का सपना देखने वालों का ये ख्वाब हमेशा अधूरा ही रहने वाला है। अगर वे जानी जाएंगी तो और बड़े काम के लिए और उन्होंने इस बड़े काम की ओर अपने मजबूत कदम बढ़ा भी दिए हैं। 25 साल की नव्या आज उभरती हुई युवा आंत्रप्रेन्योर यानी बिजनेस वुमन हैं। वे महिलाओं के मेंटल, मेंस्ट्रुअल और सेक्सुअल हेल्थ के लिए काम करने वाली कंपनी आरा हेल्थ की को-फाउंडर और जेंडर इक्वैलिटी यानी लैंगिक बराबरी को प्रमोट करने वाली संस्था प्रोजेक्ट नवेली की फाउंडर हैं।

खास बात ये है कि इन कंपनीज के जरिए नव्या महज खुद कामयाबी की उड़ान नहीं भरना चाहती, बल्कि उनका उद्देश्य समाज में बेहतरी लाना, महिलाओं को उनके मानसिक और मासिक स्वास्थ्य के बारे में जागरूक करना, उन्हें आत्मनिर्भर बनाकर गैर बराबरी की खाई पाटना है। न्यू यॉर्क के फोर्डहम यूनिवर्सिटी से पढ़ाई करने वाली नव्या की कंपनी आरा हेल्थ एक ऐसा वुमन हेल्थ केयर प्लैटफॉर्म है, जहां महावारी, मीनोपॉज, फर्टिलिटी जैसे सेक्सुअल हेल्थ से जुड़े टैबू विषयों पर खुलकर बात की जाती है। वहीं, महिलाओं के लिए जरूरी हेल्थ प्रॉडक्ट भी मुहैया कराई जाती है।

नव्या की कोशिश है कि औरतों को यहां अपने शरीर के बारे में सही जानकारी मिल सके। साथ ही, इन विषयों पर बात करते हुए उन्हें कोई झिझक या शर्मिंदगी महसूस न हो। बकौल नव्या, ‘जब मैं टीनेजर थी, तब मेरी मां मेरे सेक्स से जुड़े सवालों का खुलकर जवाब देती थीं। फिर भी मुझे लगा कि मुझे मेडिकल जानकारी लेनी चाहिए और मैं गायनोकॉलजिस्ट के पास गई और वह अनुभव बहुत ही असहज रहा। तब मुझे लगा कि यह स्थिति तमाम भारतीय लड़कियों की है। फिर, मैं तो एक ऐसे परिवार में पली-बढ़ी हूं, जहां इन विषयों को टैबू नहीं माना जाता। मैं अपने नाना के सामने भी पीरियड्स की बात कर सकती हूं, पर बहुत सी लड़कियों को ऐसा माहौल नहीं मिलता। इसलिए, मैंने 2020 में कोविड महामारी के दौरान अपने तीन दोस्तों संग आरा हेल्थ शुरू करने का फैसला लिया। आज 60 हजार से ज्यादा औरतें हमसे जुड़ी हैं। मेरा सपना देश में पीरियड पॉवर्टी खत्म करना है और पीरियड पॉवर्टी का मतलब सिर्फ पीरियड से जुड़े प्रोडक्ट्स की अनुपलब्धता नहीं है, बल्कि उससे जुड़ी जानकारी और जागरूकता का अभाव भी है। मैं चाहती हूं कि एक समय ऐसा आए, जब हस लड़की की पहुंच सैनिटरी पैड तक हो। उन्हें ये अहसास हो कि अपने शरीर की इंचार्ज वो खुद हैं।’

नव्या का कहना है कि सबसे जरूरी यह है कि हम पीरियड्स या सेक्स से जुड़े विषयों को टैबू मानना बंद कर दें। आज बहुत सी लड़कियां पीसीओएस, एंड्रियोमेट्रियोसिस, पीरियड क्रैम्प्स जैसी दिक्कतों से जूझती हैं। इसलिए जरूरी है कि हम अपने दोस्तों, परिवार वालों से इन विषयों पर खुलकर बात कर सकें। मेरे हिसाब से स्कूलों में लड़के-लड़कियों के लिए सेक्स एजुकेशन भी दिया जाना चाहिए, ताकि ये नॉर्मलाइज हो सके। साथ ही सैनिटरी पैड बनाने वाली कंपनियों को भी पीरियड का खून नीला दिखाने जैसी भ्रांतियां फैलाना बंद करके जिम्मेदार होना होगा। पीरियड कोई ऐसी चीज नहीं है, जिस पर किसी को शर्मिंदा होना पड़े, बल्कि यह तो जिंदगी का प्रतीक है। इसी तरह, नव्या की नॉन प्रॉफिटेबल संस्था प्रोजेक्ट नवेली महिलाओं को उनके अपने पैरों पर खड़ा करने की कोशिश कर रही है, ताकि उन्हें आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाने में मदद कर सके।

बॉलीवुड में नेपोटिजम एक बेहद चर्चित शब्द है। ज्यादातर स्टार किड्स अपने पैरंट्स या घरवालों के पदचिह्नों पर चलते हुए फिल्मों को ही करियर चुनते हैं। ऐसे में, बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन और एक्टेस जया बच्चन की नातिन नव्या को लेकर भी यही कयास लगे थे कि वह भी बॉलीवुड की राह ही पकड़ेंगी। वह अक्सर युवा पीढ़ी की एक्ट्रेसेज अनन्या पांडे, शनाया कपूर, सुहाना कपूर के साथ पार्टी करती भी नजर आती हैं। यही नहीं, उनके भाई अगस्त्य नंदा की एक्टिंग की ओर मुड़ चुके हैं। ऐसे में, बहुत से लोग खूबसूरत नव्या को भी पर्दे पर देखने की उम्मीद लगाए बैठे हैं लेकिन नव्या का ऐसा कोई इरादा नहीं है। नव्या के मुताबिक, लोग भूल जाते हैं कि एक तरफ मैं बेशक फिल्मी परिवार से ताल्लुक रखती हूं, पर दूसरी तरफ मेरे दादा, पापा (निखिल नंदा) का परिवार चार पीढ़ियों से बिजनेस में है। यही नहीं, पिछले दिनों जब एक फैन ने नव्या की तस्वीर पर कॉमेंट किया कि आप खूबसूरत हो, आपको भी बॉलीवुड में ट्राई करना चाहिए, तो नव्या का दो टूक जवाब था, ‘आपके प्यार भरे शब्दों का शुक्रिया लेकिन खूबसूरत औरत बिजनेस भी चला सकती है।’ वैसे, नव्या से पहले, कई और स्टार किड्स फिल्मों के बजाय दूसरे प्रफेशन को करियर बना चुके हैं। इनमें ऋषि कपूर, नीतू कपूर की बेटी और रणबीर कपूर की जूलरी डिजाइनर बहन रिद्धिमा कपूर साहनी, जैकी श्रॉफ की बिटिया और टाइगर श्रॉफ की बहन कृष्णा श्रॉफ जो हेल्थ और फिटनेस एक्सपर्ट हैं और खुद नव्या की मम्मी श्वेता नंदा जैसे नाम शामिल हैं।