देश के अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र इसरो ने दशकों तक अंतरिक्ष में भारत का परचम लहराया है। अंतरिक्ष में प्रवेश करने वाला यह पहला निजी तौर पर निर्मित रॉकेट है।

देश का पहला निजी रॉकेट ‘बिक्रम-एस’ अंतरिक्ष के लिए रवाना।

रॉकेट के निर्माता ने कहा कि इसे शुक्रवार सुबह आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा से सफलतापूर्वक लॉन्च किया गया। इस रॉकेट यात्रा के बाद क्या भारत में एलन मस्क या जेफ बेजोस का दौर शुरू हुआ? निजी पहल से रॉकेट को अंतरिक्ष में भेजने का कारनामा भले ही इस देश में नया हो, लेकिन मस्क या बेजोस अमेरिका में पहले ही ऐसी मिसाल कायम कर चुके थे। देश के अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र इसरो ने दशकों तक अंतरिक्ष में भारत का परचम लहराया है। हालांकि, यह पहली बार है जब किसी निजी तौर पर निर्मित रॉकेट ने अंतरिक्ष में उड़ान भरी है। स्वाभाविक रूप से, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने इसे एक ‘महत्वपूर्ण मील का पत्थर’ करार दिया। विक्रम-एस को शुक्रवार को श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र के लॉन्च पैड से प्रक्षेपित किया गया। जिसे हैदराबाद की एक स्टार्टअप कंपनी ‘स्काईरूट एयरोस्पेस’ ने बनाया है। हैदराबाद में उस संस्था की उम्र 4 साल है। हालांकि, इस छोटी सी अवधि में उन्होंने इतिहास में जगह बनाई है। इसमें बेशक स्काईरूट को इसरो और इंडियन स्पेस प्रमोशन एंड ऑथराइजेशन सेंटर (IN-SPACE) की मदद मिली। दरअसल, अंतरिक्ष अनुसंधान में इसरो के दबदबे के बावजूद मोदी सरकार ने देश में निजी कंपनियों को भी अवसर देने का ऐलान किया है. कुछ साल पहले केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में इस प्रस्ताव को मंजूरी दी गई थी। अंतरिक्ष में गठित। इस रॉकेट से 3 ‘पेलोड’ अंतरिक्ष में ले जाए गए हैं। वे आंध्र प्रदेश के एन-स्पेस टेक इंडिया, चेन्नई स्थित स्टार्टअप स्पेस किड्स और अर्मेनिया के बज़ुमक्यू स्पेस रिसर्च लैब द्वारा विकसित किए गए थे। स्काईरूट ने शुक्रवार को दावा किया कि श्रीहरिकोटा से प्रक्षेपण के बाद यह 89.5 किमी ऊपर चढ़ गया।

प्रधानमंत्री और अधिकारी भी इस दौरे को लेकर उत्साहित हैं l

स्काईरूट के सह-संस्थापक पवन कुमार चंदना ने कहा, “हमने देश का पहला निजी रॉकेट लॉन्च कर इतिहास रच दिया है।” पवन ने दावा किया, ”यह रॉकेट नए भारत का प्रतीक है. यह यात्रा (प्रारंभ) की शुरुआत है।” रॉकेट का नाम भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान के प्रणेता शोधकर्ता विक्रम साराभाई जैसे नामों से जुड़ा है। Skyroot के आद्याक्षर के साथ। स्काईरूट के एक अन्य सह-संस्थापक भारत डाका का मानना ​​है कि यह रॉकेट लॉन्च भविष्य में अंतरिक्ष अन्वेषण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। उनके शब्दों में, “हमने इस लॉन्च के जरिए अपनी (उन्नत) तकनीक को साबित किया है. हमने अपने निवेशकों के सामने अपनी क्षमताओं को भी साबित किया है। स्काईरूट के मुताबिक, रॉकेट को बनाने में 200 इंजीनियरों ने 2 साल तक काम किया। इस रॉकेट में उन्नत विमान प्रौद्योगिकी का उपयोग करके बनाया गया ठोस ईंधन प्रणोदन है। इसकी संरचना कार्बन फाइबर की मदद से बनाई गई है। स्काईरूट ने कहा कि रॉकेट बिक्रम श्रृंखला के अधिकांश ऑर्बिटल क्लास स्पेस लॉन्च रॉकेटों का परीक्षण करने में मदद करेगा। यह रॉकेट के प्रक्षेपण से पहले और बाद में विभिन्न चरणों में कई उप-प्रणालियों का सत्यापन भी करेगा। स्काईरूट के मुताबिक, 545 किलो वजनी इस रॉकेट की लंबाई साढ़े 19 फीट से ज्यादा है। हालांकि स्काईरूट का दावा है कि यह इस श्रेणी के दुनिया के कई रॉकेटों में सबसे सस्ता है। कंपनी के चेयरमैन पवन गोयनका ने कहा कि विक्रम-एस के सफल लॉन्च के बाद इन-स्पेस में निवेशकों ने उत्साह दिखाया है। उन्होंने कहा, ”देश की डेढ़ सौ संस्थाएं अंतरिक्ष में कदम रखने में दिलचस्पी रखती हैं. लेकिन अब तक 5 संगठनों को हरी झंडी दी जा चुकी है।

देश के पहले निजी रॉकेट ‘विक्रम-एस’ का प्रक्षेपण सफल l

भारत से सभी अंतरिक्ष मिशन राज्य द्वारा संचालित अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन इसरो द्वारा किए गए हैं। यह पहली बार है जब किसी निजी कंपनी ने अंतरिक्ष में रॉकेट लॉन्च किया है। भारत का पहला निजी तौर पर निर्मित रॉकेट ‘विक्रम-एस’ अंतरिक्ष में चला गया है। हैदराबाद की निजी कंपनी ‘स्काईरूट एयरोस्पेस’ द्वारा बनाए गए रॉकेट को शुक्रवार सुबह आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र के लॉन्च पैड से सफलतापूर्वक लॉन्च किया गया। इसे ‘विक्रम-एस’ नाम दिया गया है। इसरो सूत्रों के अनुसार, ‘विक्रम-एस’ प्रक्षेपण के बाद निर्दिष्ट कक्षा में सफलतापूर्वक पहुंच गया। ‘स्काईरूट एयरोस्पेस’ के इस मिशन का कोडनेम ‘प्रंभ’ था। संयोग से, एक निजी पहल द्वारा विकसित पहले रॉकेट का नाम भारत के प्रसिद्ध शोधकर्ता और अंतरिक्ष अग्रणी विक्रम साराभाई के नाम पर रखा गया था। ‘विक्रम-एस’ की निर्माण कंपनी के सीईओ पवनकुमार चंदना ने इस महीने की शुरुआत में कहा था कि उनके रॉकेट का निर्माण सफलतापूर्वक पूरा हो गया है। लॉन्च 12 से 16 नवंबर के बीच होगा। इसरो के एक सूत्र के अनुसार, इंजन के कुछ विस्तृत परीक्षण के कारण समय सीमा को थोड़ा आगे बढ़ा दिया गया है। निर्माता द्वारा ट्विटर पर शुक्रवार को सफल लॉन्च की घोषणा की गई। विक्रम-एस’ सिंगल स्टेज सब-ऑर्बिटल रॉकेट है। यह रॉकेट विक्रम श्रृंखला के अन्य रॉकेटों की तकनीकी क्षमताओं का परीक्षण करने में मदद करेगा। संयोग से, 2020 में, नरेंद्र मोदी की सरकार ने देश में अंतरिक्ष अनुसंधान में व्यापक सुधारों का रास्ता अपनाया। तय हुआ है कि सिर्फ इसरो ही नहीं, निजी कंपनियां भी इस बार भारत में स्पेस रॉकेट बना सकती हैं। कृत्रिम उपग्रह और उसके सहायक उपकरण बना सकते हैं। इसरो के अलावा देश में अंतरिक्ष अनुसंधान में निजी कंपनियों को शामिल करने के लिए एक अलग एजेंसी स्थापित करने के प्रस्ताव को भी कुछ साल पहले केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में मंजूरी दी गई थी। संगठन का नाम ‘भारतीय राष्ट्रीय अंतरिक्ष संवर्धन और प्राधिकरण केंद्र (IN-SPACE)’ रखा गया है।