Sunday, June 23, 2024
HomeGlobal Newsमंगलवार को पूरी दुनिया एक और अद्भुत लौकिक घटना का गवाह बनने...

मंगलवार को पूरी दुनिया एक और अद्भुत लौकिक घटना का गवाह बनने जा रही है।

चंद्रमा और शुक्र के सह-अस्तित्व के बाद मंगलवार को पूरी दुनिया एक और अद्भुत लौकिक घटना का गवाह बनने जा रही है। मंगल, बुध, बृहस्पति, शुक्र और यूरेनस-पांच ग्रह-पृथ्वी   के आकाश में सह-अस्तित्व में होंगे। अंतरिक्ष वैज्ञानिकों के अनुसार उन 5 ग्रहों को लगभग एक सीधी रेखा में देखा जा सकता है। खगोलविद और जिज्ञासु लौकिक दृश्य को देखने के लिए उत्सुक हैं। 28 मार्च यानी मंगलवार को आकाश में 3 निकटतम ग्रह मंगल, बुध और शुक्र एक कतार में नजर आएंगे। इसके अलावा बृहस्पति और यूरेनस जैसे दूरस्थ विशाल ग्रह भी उस पंक्ति में होंगे। विशेषज्ञों ने यह भी कहा कि चंद्रमा और एम35 यानी मेसियर 35 जैसे तारामंडल भी लगभग एक ही कतार में नजर आएंगे। कुल मिलाकर, मंगलवार की रात का आकाश ज्योतिषीय दृष्टि से भरपूर रहने वाला है। कुछ दिनों पहले अंतरिक्ष प्रेमी अंतरिक्ष ब्लैकबोर्ड पर चंद्रमा और शुक्र के सह-अस्तित्व को देखने के लिए उत्साहित थे। इसके बाद माना जा रहा है कि मंगलवार की लौकिक घटना और भी अद्भुत हो जाएगी। लेकिन 5 ग्रहों का यह सह-अस्तित्व क्यों? इस संदर्भ में प्रख्यात खगोलशास्त्री और कोलकाता में भारतीय अंतरिक्ष भौतिकी केंद्र के निदेशक संदीप चक्रवर्ती ने कहा, ”इसका रहस्य साढ़े चार अरब साल पहले सौर मंडल के निर्माण में निहित है.” उस मंजिल पर हम रोज चलते हैं। यह नहीं बदलता है। जैसे दौड़ने वालों का समूह मैदान में दौड़ता है। हालांकि सभी की गति अलग-अलग होती है, लेकिन संभावना है कि वे एक निश्चित बिंदु पर एक ही सीधी रेखा में आ जाएंगे।’ संदीप ने इसके लिए 4.6 अरब साल पहले सौर मंडल के निर्माण के दौरान कुल कोणीय गति को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा कि अभी भी ऐसा ही है। उसके बाद आप न केवल विदेशों में बल्कि अंतरिक्ष में भी सात समुद्र और तेरह नदियों को पार कर सकते हैं।

यह बात भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अधिकारियों ने कही। 2030 तक यात्री अंतरिक्ष में यात्रा कर सकेंगे। इसरो के अध्यक्ष एस सोमनाथ ने कहा कि ‘अंतरिक्ष पर्यटन’ को लेकर भारत की योजना काफी आगे बढ़ चुकी है. यहां तक ​​कि अंतरिक्ष में जाने के लिए टिकट के दाम भी तय होते हैं। सोमनाथ ने कहा, ‘अब हर कोई खुद को अंतरिक्ष यात्री के रूप में पहचान सकता है। अंतरिक्ष पर्यटन पर कार्य योजना के अनुसार आगे बढ़ा है। टिकटों की कीमत भी ब्लू ओरिजिन, वर्जिन गैलेक्टिक के अनुसार तय की जाती है, जो दुनिया भर में अंतरिक्ष की यात्रा करने वाली कंपनी है। फिलहाल तय हुआ है कि एक टिकट की कीमत करीब 6 करोड़ रुपए रखी जाएगी। सोमनाथ ने कहा, ‘अब हर कोई खुद को अंतरिक्ष यात्री के रूप में पहचान सकता है। अंतरिक्ष पर्यटन पर कार्य योजना के अनुसार आगे बढ़ा है। टिकटों की कीमत भी ब्लू ओरिजिन, वर्जिन गैलेक्टिक, दुनिया की सबसे बड़ी अंतरिक्ष यात्रा कंपनी के अनुसार है। फिलहाल तय हुआ है कि एक टिकट की कीमत करीब 6 करोड़ रुपए रखी जाएगी। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने अंतरिक्ष परिवहन में बड़ी सफलता हासिल की है। भारत के सबसे बड़े ‘लॉन्च व्हीकल मार्क-3’ (एलवीएम-3) रॉकेट ने रविवार सुबह 9 बजे आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से 36 कृत्रिम उपग्रहों को अंतरिक्ष में पहुंचाया। इस प्रकार के रॉकेट को पहले ‘जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल एमके 3’ कहा जाता था। इस रॉकेट का इस्तेमाल चंद्रयान 2 मिशन के दौरान भी किया गया था। वनवेब ग्रुप ऑफ कंपनीज इंग्लैंड की एक कंपनी है। जो सरकार और व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए इंटरनेट सेवाएं प्रदान करते हैं। एजेंसी ने इसरो की वाणिज्यिक शाखा, न्यू स्पेस इंडिया लिमिटेड के साथ एक समझौता किया। न्यू स्पेस को कुल 72 उपग्रहों को अंतरिक्ष में ले जाने का श्रेय दिया जाता है। रविवार का प्रक्षेपण उस समझौते के अनुसार है। 23 अक्टूबर, 2022 को इसरो ने 36 वनवेब उपग्रहों के पहले चरण का प्रक्षेपण किया।43.5 मीटर लंबे 643 टन के रॉकेट को श्रीहरिकोटा के दूसरे लॉन्च पैड (लॉन्च पैड) से लॉन्च किया गया। 36 उपग्रहों का उद्देश्य कृत्रिम उपग्रहों पर आधारित इंटरनेट सेवाएं प्रदान करना है। जिसे पृथ्वी के वायुमंडल की सबसे निचली कक्षा या ‘लो अर्थ ऑर्बिट’ में बदला जाएगा। 36 उपग्रहों का संयुक्त वजन 5805 किलोग्राम है। इससे पहले इसरो के नाम 500 से अधिक कृत्रिम उपग्रहों को अंतरिक्ष में भेजने का दुर्लभ रिकॉर्ड है।

3 अप्रैल 1984 को भारतीय अंतरिक्ष यात्री राकेश शर्मा ने रूसी अंतरिक्ष यान में अंतरिक्ष के लिए रवाना होकर एक मिसाल कायम की। वे पहले भारतीय नवसंचर थे। 34 साल बाद भारत एक बार फिर मिसाल कायम करने की राह पर है। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र इसरो ने भारतीय अंतरिक्ष यात्रियों को देश में बने अंतरिक्ष में भेजकर अंतरिक्ष में भेजने की घोषणा की है। ‘गगनयान मिशन’ नाम दिया है। उन्हें न केवल अंतरिक्ष में भेजना बल्कि भारतीय अंतरिक्ष यात्री कल्पना चावला के हश्र को ध्यान में रखते हुए इसरो ने यह भी कहा कि भारतीय अंतरिक्ष यात्रियों को कैसे सुरक्षित तरीके से धरती पर वापस लाया जा सकता है।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments