Tuesday, April 23, 2024
HomeHealth & Fitnessकैंसर से बचने में ये फल कर सकते है आपकी मदद, जानिए...

कैंसर से बचने में ये फल कर सकते है आपकी मदद, जानिए कैसे करे सेवन

नई दिल्ली। हर चीज से ज्यादा जरुरी है आपकी सेहत, फिर चाहे वो शरीरिक हो या मानसिक। तो ऐसे में हमेशा खुद का ध्यान रखना सबको आना चाहिए और जब कोई भी चीज समझ में ना आए तो डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। खैर आज हम बात कर रहे है कैंसर को लेकर, दुनियाभर में पिछले एक दशक में कैंसर रोगियों की संख्या में बड़ा उछाल देखने को मिला है। तो ऐसे में आज हम आपको बताएंगे ऐसे फालों के बारें में जिससे सेवन से आप कैसर से बच सकते है।

कैंसर के इलाज को आसान बनाने में मिली बड़ी सफलता - BBC News हिंदी

जाहिर है कि, और हर कोई इस बात को जानता है कि कैंसर उन घातक रोगों में से एक है जिसके कारण हर साल लाखों लोगों की मौत हो जाती है। तो ऐसे में अमेरिकन इंस्टीट्यूट फॉर कैंसर रिसर्च (एआईसीआर) के मुताबिक, कैंसर की रोकथाम के लिए वैसे तो कई सब्जी या फल जादुई गोली की तरह काम नहीं करती है, लेकिन अच्छी खबर यह है कि आप कुछ ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन जरूर कर सकते हैं जिनमें कैंसर रोधी क्षमता मौजूद होती है। इनका सेवन आपको कई तरह के कैंसर को जोखिमों को कम करने में मदद कर सकता है।

1- ब्लूबेरी
ब्लूबेरी में कई फाइटोकेमिकल्स और पोषक तत्व होते हैं जिन्हें प्रयोगशाला अध्ययनों में कैंसर के जोखिमों को कम करने वाला पाया गया है। कई अध्ययनों में पाया गया है कि ब्लूबेरी खाने से रक्त में एंटीऑक्सीडेंट गतिविधि बढ़ती है साथ ही डीएनए क्षति को रोकने में भी इससे मदद मिल सकती है। ब्लूबेरी का सेवन करके आप कई तरह के कैंसर को खतरे को कम कर सकते हैं।

2- अनार
अनार में ऐसे एंटीऑक्सिडेंट होते हैं जो प्रदूषण और सिगरेट के धुएं जैसे पर्यावरणीय विषाक्त पदार्थों से कोशिकाओं की रक्षा करने में मदद करते हैं। ये डीएनए क्षति को रोकने और उनकी मरम्मत करने में भी कारगर माना जाता है जिससे कैंसर हो सकता है। हार्वर्ड की रिपोर्ट में बताया गया है कि अनार का रस हानिकारक एलडीएल कोलेस्ट्रॉल के स्तर और रक्तचाप को कम करने में भी मदद कर सकता है।

3- अंगूर
इंटरनेशनल जर्नल ऑफ मॉलिक्यूलर साइंसेज में प्रकाशित एक समीक्षा में वैज्ञानिकों ने बताया कि अंगूर में शक्तिशाली एंटी-ऑक्सीडेटिव, एंटी-इंफ्लेमेटरी और कैंसर-रोधी गुणों के बारे में पता चलता है जो स्तन कैंसर, मल्टीपल मायलोमा, प्रोस्टेट कैंसर, लिवर कैंसर के साथ त्वचा और फेफड़ों के खतरे को कम करने में सहायक हो सकती है।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments