Sunday, February 25, 2024
HomeIndian Newsवाराणसी में बोले सपा उम्मीदवार अशफाक डबलू ,हम भी श्रीराम के वंशज...

वाराणसी में बोले सपा उम्मीदवार अशफाक डबलू ,हम भी श्रीराम के वंशज हैं l

नई दिल्ली : भारतीय जनता पार्टी अक्सर धर्म की राजनीति करने के आरोप लगते रहते हैं जहां अक्सर दूसरे दलों के नेता यह कहते हैं दिखाई पड़ जाते हैं कि भाजपा जय श्री राम के नाम पर हिंदुओं और मुसलमानों को अलग करती है, समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी अशफाक अहमद डब्लू ने खुद को श्रीराम का पूर्वज बताते हुए भारतीय जनता पार्टी को निशाने पर लिया उत्तर प्रदेश में 23 फरवरी को चौथे चरण के लिए वोट डाले जाएंगे। विधानसभा चुनाव के बीच समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी ने ऐसा बयान दिया है जिसकी चर्चा सोशल मीडिया पर खूब हो रही है। सपा के बनारस जिले की बनारस उत्तरी विधानसभा क्षेत्र से प्रत्याशी अशफाक अहमद डब्लू ने बयान दिया है कि वह भी श्री राम के वंशज है वाराणसी नॉर्थ से बीजेपी ने रविंद्र जायसवाल को उम्मीदवार बनाया है। जबकि बसपा ने श्याम प्रकाश को उम्मीदवार बनाया है। सपा ने अशफाक अहमद डब्लू को अपना प्रत्याशी बनाया है, जबकि कांग्रेस ने मुस्लिम महिला गुलेराना सबस्सुम को उम्मीदवार घोषित किया है। इस सीट से असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी AIMIM ने ब्राह्मण उम्मीदवार हरीश मिश्रा को मैदान में उतारा है जबकि आम आदमी पार्टी ने डॉक्टर आशीष जायसवाल को उम्मीदवार बनाया है। सपा प्रत्याशी अशफाक ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि, “क्या हम हिंदुस्तानी नहीं है? आप लोग जय श्री राम बोलते हैं, क्या हम श्री राम के वंशज नहीं है?” चुनाव के बीच अशफाक अहमद का यह बयान सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बना हुआ है। दरअसल सपा पर बीजेपी राम विरोधी होने का आरोप लगाती है और श्रीराम को लेकर अशफाक अहमद का बयान लोगों को आश्चर्यचकित कर रहा है  बनारस नॉर्थ विधानसभा सीट पर मुस्लिम मतदाताओं की संख्या भी काफी अधिक है। वाराणसी नॉर्थ सीट पर 1 लाख 40 हजार के करीब मुस्लिम मतदाता हैं जबकि 60 हजार वैश्य और 50 ठाकुर मतदाता भी इस सीट पर है। कायस्थ 30 हजार और अनुसूचित जाति के करीब 80 हजार वोटर इस सीट पर हैं। पिछले दो विधानसभा चुनाव से बीजेपी यहां पर जीत रही है जबकि उसके पहले तीन बार लगातार समाजवादी पार्टी ने जीत हासिल की थी।

अशफाक वर्ष 2012 में वाराणसी के कैंट कैंट सीट से विधानसभा चुनाव लड़े थे जिसमें उन्हें हार का सामना करना पड़ा इसके बाद वर्ष 2017 के चुनाव में अशफाक ने शहर दक्षिणी से टिकट की दावेदारी जताई और समाजवादी पार्टी की ओर से इस पर सहमति जताते हुए उन्हें टिकट भी दिया गया था लेकिन कांग्रेस और सपा के समझौते में यह सीट कांग्रेस के पास चले जाने से उन्हें चुनाव लड़ने का मौका नहीं मिल पाया।फिलहाल होटल बाय स्क्रैप कारोबारी परिवार के अशफाक अहमद एक लंबे समय से समाजवादी पार्टी से जुड़े हैं और पार्टी में इनका अच्छा खासा प्रभाव भी देखने को मिलता है सपा ने नामांकन के अंतिम दिन की पूर्व संध्या पर बसपा को टिकट देकर विपक्षी दलों को चौंका दिया था

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments