Sunday, February 25, 2024
HomeEditors Pickडॉ वीरेंद्र कुमार ने किया वन स्टॉप सेंटर योजना का उद्घाटन, महिलाओं...

डॉ वीरेंद्र कुमार ने किया वन स्टॉप सेंटर योजना का उद्घाटन, महिलाओं के खिलाफ हिंसा की समस्या का होगा समाधान

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास राज्यमंत्री डॉ वीरेंद्र कुमार नेत्रिपुरा प्रवास के प्रथम दिवस जिला खोवाई स्थित आदरणीय प्रधानमंत्री श्री जी के कुशल मार्गदर्शन में महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के तहत संचालित योजना नवनिर्मित सखी -वन स्टाॅप सेंटर का उद्घाटन किया तथा योजना का निरीक्षण करने के निर्देश भी दिए। यह यह योजना खासतौर पर महिलाओं के खिलाफ हिंसा की समस्या के समाधान के लिये एक केंद्र प्रायोजित योजना है। वन स्टॉप सेंटर योजना को अप्रैल 2015 में लॉन्च किया गया था।

समाज में भले ही स्त्रियां पुरुषों के साथ कदम से कदम मिलाकर चल रही हैं लेकिन इसके बाद भी ऐसी स्थिति कई बार आ जाती है कि महिलाओं को हिंसा का शिकार होना पड़ता है। एक ही छत के नीचे हिंसा से पीड़ित महिलाओं एवं बालिकाओं को एकीकृत रूप से सहायता एवं सहयोग प्रदान करने के लिये देश भर में वन स्टॉप सेंटर के निर्माण किया जा रहा है।

वन स्टॉप सेंटर योजना का क्या है उद्देश्य

वन स्टॉप सेंटर योजना का एकमात्र उद्देश्य परिवार के भीतर या कार्यस्थल पर या समुदाय के भीतर, निजी या सार्वजनिक स्थानों पर होने वाली हिंसा से प्रभावित महिलाओं का समर्थन करना है जिससे हिंसा की घटना को रोका जा सके। यह वन स्टॉप सेंटर योजना विशेष रूप से उन महिलाओं के लिए जो महिलाएं अपनी जाति, पंथ, नस्ल, वर्ग, शिक्षा की स्थिति, उम्र, संस्कृति या वैवाहिक स्थिति के बावजूद यौन, शारीरिक, मनोवैज्ञानिक, भावनात्मक और आर्थिक शोषण का सामना करती हैं। यह योजना उन सभी मुद्दों को समाप्त कर, उनके खिलाफ हिंसा को रोककर महिलाओं को और सशक्त बनाएगी।

समारोह में कौन-कौन रहा उपस्थित

केंद्रीय मंत्री ने वन स्टॉप सेंटर योजना की शुरुआत करने के दौरान उन्होंने जनसमुदाय को संबोधित किया। कार्यक्रम के दौरान जिला सभापति जॉयदेब देबबर्मा ,खोवाई नगर परिषद अध्यक्ष देबाशीष नाथ शर्मा ,समाज कल्याण और सामाजिक शिक्षा मंत्री महोदया श्रीमती संताना चकमा ,विधायक श्री प्रशांत देबबर्मा उपस्थित रहे।

पीएम मोदी के द्वारा शुरू की गई कई योजनाओं की चर्चा

केंद्रीय मंत्री डॉ वीरेंद्र कुमार ने वन स्टॉप सेंटर योजना के अलावा जन सैलाब को संबोधित कर स्थानीय समुदायों ,जनसंख्या और अन्य हितधारकों से संवाद भी किया। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कुशल मार्गदर्शन में सबका साथ,सबका विकास,सबका विश्वास और सामूहिक प्रयास के मूल्यों व अंत्योदय भाव से प्रेरित जनकल्याणकारी योजनाओं जैसे स्वंय सहायता समूह, प्रधानमंत्री आवास योजना,प्रधानमंत्री मुद्रा योजना, स्टैंडअप इंडिया योजना जैसे अन्य लोकप्रिय योजनाओं की चर्चा की।

लाभार्थी जनों ने सभा में किए विचार साझा

विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों से परिचर्चा कर समाज के विभिन्न वर्गों को सम्मानित किया उनमें आत्मनिर्भरता का तत्व जागृत किया। इस दौरान कई लाभार्थी जनों ने अपनी सफलता की कहानी को प्रेरणा भाव से समारोह में सभी के साथ साझा किया जैसे : स्वयं सहायता समूह योजना के बदौलत स्वंय सहायता समूह के बहनों और माताओं ने अपने जीवन में आए सकारात्मक बदलाव का वर्णन किया गया।

विभिन्न योजनाओं से हुआ जनकल्याण

योजना के लाभार्थियों के द्वारा इस तरह के विचार साझा करना सकारात्मक बदलाव नये भारत के निर्माण का प्रमुख कारक है ।कालांतर में देश के इतिहास स्वरूप विकास का अध्याय समाजिक चेतना से परिपूर्ण समाजिक राजनीतिक ,आर्थिक और धार्मिक स्वतंत्रता के परिपाटी पर लिखा जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को जातिवाद, क्षेत्रवाद, संप्रदायवाद,परिवारवाद इत्यादि बुराइयों से देश को मुक्ति दिला दिया है।

यह भी पढ़े: दक्षिणी फिल्म निर्देशक राजामौली ने ऐसा क्यू कहा उनकी फिल्म की कहानी चोरी की है?National Logistics Policy 2022

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments