पीएम मोदी की तीव्रता राजनीति में देखने को मिलती रहती है! पांच दिन पहले तक पीएम नरेंद्र मोदी इंडोनेशिया के बाली में जी-20 सम्मेलन में देश की कूटनीति को धार देने में जुटे हुए थे। 14-16 तक बाली में रहने के अगले ही दिन पीएम मोदी ने 96 घंटे के भीतर तीन राज्य नाप लिए हैं। इस वक्त पीएम मोदी गुजरात में हैं और विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के प्रचार अभियान को मजबूती देने में जुटे हैं। विपक्षी नेता भी पीएम मोदी की एनर्जी के कायल हैं। बाली से लौटने के बाद पीएम मोदी अरुणाचल दौरे पर पहुंचे थे। उसी दिन पीएम यूपी तमिल संगमम में भाग लेने पहुंचे और उसके बाद से वह लगातार गुजरात में चुनावी अभियान को आगे बढ़ा रहे हैं।बाली में भी पीएम मोदी ने ताबड़तोड़ मीटिंग की थी। पीएम मोदी ने यहां 20 बैठकें की थीं। यहां पीएम ने 45 घंटे में 20 बैठक में भाग लिया। वो भारतीय समुदाय के कार्यक्रम में भी शामिल हुए।

पीएम मोदी बाली से लौटने के बाद भी लगातार एक्टिव रहे। 17-18 नवंबर को पीएम मोदी ने कई सरकारी कार्यक्रमों में भाग लिया। 17 नवंबर को पीएम ने नो मनी फॉर टेरर (NMFT) मंत्रीमंडलीय कार्यक्रम को संबोधित किया। इसके अलावा पीएम मोदी के अन्य कई सरकारी कार्यक्रम भी रहे।19 नवंबर को पीएम मोदी के ताबड़तोड़ कार्यक्रम थे। सबसे पहले वह पूर्वोत्तर राज्य अरुणाचल प्रदेश पहुंचे जहां उन्होंने इटानगर में नए हवाईअड्डे डोनी पोलो एयरपोर्ट का उद्घाटन किया। ये राज्य का पहला ग्रीनफील्ड एयरपोर्ट है। इसी दिन दोपहर में पीएम मोदी ने अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में काशी तमिल संगमम का उद्घाटन किया। वे काशी में 3 घंटे रुके और फिर गुजरात के लिए रवाना हो गए। यहां सौराष्ट्र इलाके में पीएम मोदी ने चार चुनाव जनसभाओं को संबोधित किया। ये वो इलाके हैं जहां 2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी का प्रदर्शन खराब रहा था।

इसके बाद पीएम मोदी 20 नवंबर को सोमनाथ मंदिर में पूजा की और सौराष्ट्र इलाके में चार चुनावी सभाओं को संबोधित किया। पीएम मोदी ने वेरावल, धोराजी, अमरेली और बोताद में चुनावी सभी की।गुजरात चुनाव में बीजेपी कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती है और उसके सबसे अस्त्र पीएम मोदी ने खुद अपने गृह राज्य की प्रचार कमान संभाल ली है।पीएम मोदी की इस एनर्जी के विपक्षी भी कायल हैं। पीएम मोदी की दिनचर्या भी तड़के शुरू होती है। योग से लेकर मॉर्निंग वॉक तक पीएम मोदी की एनर्जी का राज है। पीएम गुजराती नाश्ता के शौकीन हैं। वह सुबह में पोहा, खाखरा, भाखरी और अदरक वाली चाय लेते हैं। इससे वह दिनभर तरोताजा रहते हैं। इसके अलावा पीएम फल और ड्राइ फ्रूट भी लेते हैं। पीएम मोदी इसके अलावा मेडिटेशन भी करते हैं, जिससे तनाव से मुक्ति मिलती है। 21 नंवबर को पीएम सुरेंद्रनगर, जंबुसर और नवसारी में जनसभा को संबोधित करेंगे।

पीएम मोदी की इस एनर्जी के विपक्षी भी कायल हैं। पीएम मोदी की दिनचर्या भी तड़के शुरू होती है। योग से लेकर मॉर्निंग वॉक तक पीएम मोदी की एनर्जी का राज है।पीएम मोदी की इस एनर्जी के विपक्षी भी कायल हैं। पीएम मोदी की दिनचर्या भी तड़के शुरू होती है। योग से लेकर मॉर्निंग वॉक तक पीएम मोदी की एनर्जी का राज है। पीएम गुजराती नाश्ता के शौकीन हैं। वह सुबह में पोहा, खाखरा, भाखरी और अदरक वाली चाय लेते हैं। इससे वह दिनभर तरोताजा रहते हैं। इसके अलावा पीएम फल और ड्राइ फ्रूट भी लेते हैं। पीएम मोदी इसके अलावा मेडिटेशन भी करते हैं, जिससे तनाव से मुक्ति मिलती है। पीएम गुजराती नाश्ता के शौकीन हैं। वह सुबह में पोहा, खाखरा, भाखरी और अदरक वाली चाय लेते हैं। इससे वह दिनभर तरोताजा रहते हैं। इसके अलावा पीएम फल और ड्राइ फ्रूट भी लेते हैं। पीएम मोदी इसके अलावा मेडिटेशन भी करते हैं, जिससे तनाव से मुक्ति मिलती है।

बिहार के सीएम नीतीश कुमार से लेकर तेलंगाना के सीएम के चंद्रशेखर राव, अखिलेश यादव, ममता बनर्जी और शरद पवार जैसे दिग्गज बीजेपी के खिलाफ मोर्चेबंदी में जुटी हुई है।पीएम मोदी की इस एनर्जी के विपक्षी भी कायल हैं। पीएम मोदी की दिनचर्या भी तड़के शुरू होती है। योग से लेकर मॉर्निंग वॉक तक पीएम मोदी की एनर्जी का राज है। पीएम गुजराती नाश्ता के शौकीन हैं। वह सुबह में पोहा, खाखरा, भाखरी और अदरक वाली चाय लेते हैं। इससे वह दिनभर तरोताजा रहते हैं। इसके अलावा पीएम फल और ड्राइ फ्रूट भी लेते हैं। पीएम मोदी इसके अलावा मेडिटेशन भी करते हैं, जिससे तनाव से मुक्ति मिलती है। उधर पीएम मोदी सरकारी कार्यक्रम से लेकर बीजेपी के प्रचार के लिए जुटे हुए हैं। पीएम मोदी ताबड़तोड़ सभाएं और मीटिंग लेते हैं। पीएम मोदी इंडोनेशिया के बाली में जी-20 बैठक में शामिल होने के लिए गए थे। वहां उन्होंने दुनिया के कई बड़े दिग्गज नेताओं के साथ बैठक की थी। इस दौरान 20 से ज्यादा कार्यक्रमों में शाामिल हुए थे।