Thursday, April 18, 2024
HomeIndian Newsसाल भर में सड़क हादसों में हुई मौतों का आंकड़ा देखकर आप...

साल भर में सड़क हादसों में हुई मौतों का आंकड़ा देखकर आप भी हैरान रह जाएंगे!

देश में जितने सड़क हादसे होते हैं उन सड़क हादसों की अगर एक रिपोर्ट तैयार की जाए तो वह रिपोर्ट डरा देने वाली होगी! देश के बड़े उद्योगपति साइरस मिस्त्री के कार हादसे में निधन से सड़क सुरक्षा की चिंता फिर से बहस के केंद्र में है। देश में सड़कों के जानलेवा हालात को लेकर लोग चिंता जता रहे हैं तो यात्री वाहनों के अंदर सुरक्षा सुविधाओं पर भी खूब बहस हो रही है। दरअसल, मिस्त्री की कार जिस मुंबई-अहमदाबाद हाइवे पर फर्राटे भर रही थी, उसमें कई खामियां हैं। लोग सड़क की डिजाइन से लेकर ट्रैफिक सिस्टम तक की शिकायतें करते रहते हैं। ऐसा नहीं है कि यह हाल सिर्फ मुंबई-अहमदाबाद हाइवे का ही है, देश के बाकी हाइवेज भी इन्हीं कमियों के कारण अकाल मृत्यु की वजह बनते हैं। आंकड़े भी यही बताते हैं कि जानलेवा सड़कों के मामले में भारत दुनिया में शीर्ष पर है। आपको भी ये आंकड़े देखने चाहिए ताकि समझ सकें कि 21वीं सदी में भी हमारी सरकारें किस तरह बुनियादी सुविधाएं देने में बुरी तरह नाकाम रही हैं।

सेवलाइव फाउंडेशन के आंकड़े बताते हैं कि पिछले वर्ष 2021 में भारत प्रति 1,000 सड़क दुर्घटनाओं में होने वाली मौतों के मामले में दुनिया में सबसे आगे है। तकनीकी भाषा में इसे रोड क्रैश सिवयरिटी कहा जाता है जो भारत में 38.6 है। यानी भारत में अगर 1,000 सड़क दुर्घटनाएं होती हैं तो औसतन 38.6 लोग मारे जाते हैं। यह दर 2021 की थी जो एक वर्ष पहले 2020 में 37.5 से ज्यादा है।साल 2016 के उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक, भारत दुनिया के उन 20 देशों की लिस्ट में टॉप पर है जहां रोड क्रैश सिवियरिटी सबसे ज्यादा है। इस मामले में भारत 31.7 पहले जबकि चीन 29.4 के साथ दूसरे नंबर पर है।

नैशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्यूरो (NCRB) के आंकड़ों के मुताबिक, वर्ष 2021 में देश ने सड़क हादसों के 4,03,116 मामले देखे जो वर्ष 2020 में 3,54,796 मामलों से ज्यादा हैं। इस दौरान रोड एक्सिडेंट्स में मौतों की संख्या में भी 16.8 प्रतिशत की बढ़ोतरी देखी गई। 2020 में सड़क हादसों में 1,33,201 लोगों ने जान गंवाई थी। 2021 में यह आंकड़ा बढ़कर 1,55,622 हो गया।

एनसीआरबी के आंकड़े बताते हैं कि उत्तर प्रदेश में सड़क हादसों में सबसे ज्यादा मौतें हुईं। उसके बाद तमिलनाडु और महाराष्ट्र के नंबर आते हैं। वर्ष 2021 में देश में सड़क हादसों से हुईं कुल मौतों में इन तीन राज्यों की हिस्सेदारी क्रमशः 14 प्रतिशत, 9.88 प्रतिशत और 8.94 प्रतिशत है।

आम तौर पर सड़क हादसों में मरने वालों से ज्यादा तादाद घायलों की होती है। हालांकि, मिजोरम, पंजाब, झारखंड और उत्तर प्रदेश में यह मामला उलटा है। यानी, इन राज्यों में हुए सड़क हादसों में कम संख्या में लोग घायल हुए जबकि मौतों की संख्या ज्यादा रही। मिजोरम में 64 रोड एक्सिडेंट्स हुए और इतनी ही मौतें हुईं जबकि 28 लोग जख्मी हुए। पंजाब में 6,097 सड़के हादसों में 4,516 मौतें हुईं जबकि 3,034 लोग जख्मी हुए। झारखंड में 4,728 रोड एक्सिडेंट्स हुए जिनमें 3,513 मौतें हुईं जबकि 3,227 घायल हुए। वहीं, उत्तर प्रदेश में कुल 33,711 सड़क दुर्घटनाओं में 21,792 लोगों का अकाल मृत्यु हो गई जबकि 21,792 लोग घायल हुए।

2021 में दोपहिया वाहनों के हादसों में सबसे ज्यादा 69,240 मौतें हुईं। उसके बाद कार हादसों में 23,531 जबकि ट्रकों और लॉरियों के हादसों में 14,622 जानें गईं। इस तरह, सड़क हादसों में हुईं कुल मौतों में बाइकों की हिस्सेदारी 44.5 प्रतिशत, कारों की 15.1 प्रतिशत जबकि ट्रकों/लॉरियों की 9.4 प्रतिशत रही।दोपहिया वाहनों से सबसे ज्यादा 8,259 मौतें तमिलनाडु में जबकि 7,429 मौतें उत्तर प्रदेश में रहीं। एसयूवी/कार/जीप एक्सिडेंट में सबसे ज्यादा 4,039 मौतें उत्तर प्रदेश में हुईं। वहीं, ट्रकों/लॉरियों/मिनी ट्रकों के हादसों में सबसे ज्यादा 3,423 मौतें मध्य प्रदेश में हुईं। वहीं, वहीं बस हादसों में सबसे ज्यादा 1,337 मौतें उत्तर प्रदेश में हुईं जबकि 551 मौतों के साथ तमिलनाडु दूसरे नंबर पर है। बिहार 2,796 मौतों के साथ पैदल यात्रियों की मौतों के मामले में देश में अव्वल रहा।

महीने के लिहाज से जनवरी सबसे घातक साबित हुआ जब कुल 40,235 मौतें सड़क हादसों में हुईं। इस महीने सबसे ज्यादा 5,322 मौतें तमिलनाडु में हुईं।भारत में ज्यादातर सड़क हादसे शाम 6 बजे से रात 9 बजे के बीच होते हैं। 2021 में हुए कुल 4,03,116 हादसों में 81,410 हादसे इसी दरम्यान हुए जो कुल हादसों का 20.2 प्रतिशत है। शाम 3 बजे से 6 बजे के बीच कुल 71,711 यानी 17.8 प्रतिशत जबकि दोपहर 12 बजे से शाम 3 बजे के बीच 62,587 यानी 15.5 प्रतिशत सड़क हादसे हुए।

राष्ट्रीय राजमार्ग (NH) की लंबाई देश में कुल 63.9 लाख किलोमीटर सड़कों में सिर्फ 1.33 लाख यानी 2.1 प्रतिशत है, लेकिन सबसे ज्यादा 30.3 प्रतिशत हादसे इन्हीं पर होते हैं। स्टेट हाइवेज (SH) 1.87 लाख किलोमीटर यानी 2.9 प्रतिशत है जबकि 23.9 प्रतिशत हादसे इन्हीं सड़कों पर होते हैं। इस तरह देखें तो 45.8 प्रतिशत सड़क हादसे एनच या एसएच के सिवा अन्य सड़कों पर होते हैं। इनके अलावा, 1,899 हादसे एक्सप्रेसव पर हुए जिनममें 1,356 लोगों की मौत हुई जबकि 1,214 लोग घायल हुए।

एनएच सड़क हादसों में सबसे ज्यादा मौतों के मामले में भी अव्वल है। कुल 53,615 यानी 34.5 प्रतिशत मौतें एनएच पर हुए हादसों में ही हुईं। उसके बाद स्टेट हाइवेज पर हुए हादसों में 39,040 यानी 25.1 प्रतिशत मौतें हुईं। वहीं, 62,967 यानी 40.5 प्रतिशत मौतें अन्य सड़कों पर हुए हादसों में हुईं।

एनएच पर हुए हादसों के राज्यवार ब्योरे की बात करें तो उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा 7,212 मौतें हुईं। वहीं, तमिलनाडु में 5,360 मौतें, महाराष्ट्र में 3,996 मौतें, राजस्थान में 3,653 मौतें जबकि आंध्र प्रदेश में 3,602 मौतें हुईं। इसी तरह, प्रादेशिक राजमार्गों (SH) पर हुए हादसों के मामलों में तमिलनाडु टॉप पर है। वहां के एसएच पर कुल 18,560 सड़क हादसे हुए। वहीं, मौतों की बात करें तो 5,891 मौतों के साथ उत्तर प्रदेश सबसे आगे जबकि 5,067 मौतों के साथ तमिलनाडु दूसरे नंबर पर है। एक्सप्रेसवे की बात करें तो उत्तर प्रदेश में कुल 965 यानी 71.2 प्रतिशत मौतें हुईं। उसके बाद हरियाणा में 9.3 प्रतिशत, महाराष्ट्र में 6.4 प्रतिशत, पंजाब में 3.2 प्रतिशत जबकि पश्चिम बंगाल में 3 प्रतिशत मौतें हुईं।

देश के 53 बड़े-बड़े शहरों में कुल 55,442 सड़क हादसे हुए जिनमें 5,034 की संख्या के साथ चेन्नै टॉप पर है। इस लिस्ट में 4,505 हादसों के साथ दिल्ली दूसरे जबकि 3,213 हादसों के साथ बेंगलुरु तीसरे स्थान पर है। लेकिन मौतों के मामले में दिल्ली 1,172 के आंकड़े के साथ शीर्ष पर है। वहीं, चेन्नै में 998 जबकि बेंगलुरु में 654 मौतें हुईं। इन 53 शहरों में सबसे ज्यादा 7,415 यानी 55.4 प्रतिशत सड़क हादसे ओवर स्पीडिंग की वजह से हुए। वहीं, सबसे ज्यादा 3,885 यानी 29 प्रतिशत मौतें खतरनाक तरीके से या लापरवाही से की गई ड्राइविंग या ओवरटेकिंग के कारण हुई।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments